हिन्दी

कुम्भ राशि मासिक राशिफल (Kumbh Rashi Masik Rashifal)

कुम्भ राशि मासिक राशिफल (Kumbh Rashi Masik Rashifal)

कुम्भ मासिक राशिफल अक्टूबर 2021

माह अक्टूबर 2021 की गृह स्थितियों अनुसार मासिक फल निम्न प्रकार है:

इस मास श्री सूर्य 17 अक्टूबर से भाग्य भावगत गोचर करेंगे। श्री मंगल 22 अक्टूबर से भाग्य भाव भावगत गत गोचर करेंगे। श्री बुध 02 अक्टूबर से वक्री गति से अष्टम भावगत करेंगे। श्री वृहस्पति 18 सितम्बर से मार्गी गति से व्यय भाव गत गोचर करेंगे। तथा श्री शुक्र 02 अक्टूबर से कर्म भावगत तथा 30 अक्टूबर से आय भावगत गोचर करेंगे। तथा श्री शनि पूर्ववत व्यय भाव में गोचर करेंगे। राहू का गोचर सुख भाव में एवं केतू का गोचर कर्म भाव में रहेगा।

कैरियर एवं व्यवसायः अक्टूबर 2021 कुम्भ राशि के जातक एवं जातिकायें ऐसे क्षेत्रों में कैरियर को चमकाने में लगे हुये रहेंगे। जिसमें उनकी दिलचस्पी हैं, यानी ग्रहीय गोचर किसी कि देखा-देखी नहीं बल्कि स्वतः की उत्पन्न रूचि के अनुसार कार्य व  कैरियर को जोरदार बनाने के अवसरों को देने वाला रहेगा। हालांकि इस माह के पहले दो सप्ताहों तक श्री सूर्य का गोचर कार्य व व्यापार में कड़ी मशक्कत देने वाला रहेगा। यदि आप किसी कूटनीतिक व खनन तथा तरल पदार्थों के क्षेत्रों में अपने कैरियार को अनूठा बनाना चाह रहें हैं, तो सफल रहेगे। वहीं भौम का गोचर कुछ पीड़ाओं को देने वाला रहेगा। यानी इस माह कैरियर के बारे में दूरस्थ स्थानों की यात्रा व प्रवास हेतु जाने की जरूरत रहेगी। वहीं श्री शुक्र का गोचर संबंधित आजीविका के क्षेत्रों में लाभांश को बढ़ाने वाला रहेगा। किन्तु छोटी-छोटी बातों को अनदेखा न करें, अन्यथा परेशानी बढ़ी रहेगी।

प्रेम एवं संबंधः कुम्भ राशि अक्टूबर 2021 में इस राशि के जातक एवं जातिकायें स्वजनों के मध्य कुछ बातों में तनाव को महसूस करते हुये रहेंगे। यानी छोटी-छोटी बातों को बड़ा बनाकर रिश्तों की डोर को कमजोर करते रहेंगे। इस माह संबंधों को मधुरता की तरफ बढ़ाने में अधिक ध्यान देने की जरूरत बनी हुई रहेगी। वैसे इस माह के श्री सूर्य व भौम के गोचर स्वजनों के मध्य तनाव को देने वाले रहेगे। जिससे घर व परिवार में अच्छे व सकारात्मक माहौल की कमी रहेगी। वहीं निजी संबंधों में चाहत का दौर लड़ाई झगड़ों की ओर जा सकता हैं, वैसे श्री शुक्र का गोचर कहीं न कहीं अच्छे परिणामों को देने वाला रहेगा। जिससे बढ़ते हुये तनाव व झगड़ों को टालने में सक्षम रहेंगे। अतः अपने स्तर पर सूझबूझ को कायम रखें, तो निश्चित तौर पर एक दूसरे के प्रति रूचि को जाग्रति करने में सक्षम रहेंगे। कहने का अभिप्राय है, कि इस माह आप निजी व घरेलू संबंधों में मिश्रित परिणामों के दौर से गुजरते हुये रहेंगे।

वित्तीय स्थितिः अक्टूबर 2021 में कुम्भ राशि के जातक एवं जातिकायें मौद्रिक नीति को और सुन्दर बनाने तथा संबंधित वित्तीय इकाईयों में जान फूंकने में लगे रहेगे। आपके द्वारा किए गए प्रयासों का अच्छा लाभ मिलता हुआ रहेगा। यानी आप निजी व सरकारी इकाइयों में जिम्मेदार पदों पर हैं, तो इस माह खनन, तेल, गैस, प्रबंधन, कूटनीति आदि के क्षेत्रों में पूंजीगत लाभ रहेगा। वहीं देशी तथा विदेशी निवेश को आकर्षित करने की मंशा पूरी होती रहेगी। इस माह आप किसी दूर-दराज के क्षेत्रों में पद व अधिकार सम्पन्न व्यक्ति से मिलकर परस्पर लाभ व हितों को ध्यान में रखकर कोई अहम निर्णय ले सकते हैं। क्योंकि श्री सूर्य व भौम का गोचर शुभ तथा सकारात्मक रहेगा। वैसे संबंधित क्षेत्रों में व सामान्य जीवन में भी व्यय बढ़ा हुआ रहेगा। किन्तु शुक्र लाभ के स्तर को बढ़ाने वाले रहेंगे। यानी चुनौतियों तो रहेगी। किन्तु लाभ रहेगा।

शिक्षा एवं ज्ञानः अक्टूबर 2021 में कुम्भ राशि के जातक एवं जातिकायें संबंधित बेसिक शिक्षा व उच्च शिक्षा के क्षेत्रों में सतत् आगे बढ़ते हुये रहेंगे। हालांकि इस माह संबंधित प्रबंधन, अभिनय की कला को संवारने के लिए आपको कड़ी मेेहतन की जरूरत बनी हुई रहेगी। वहीं राजनैतिक व सामाजिक सरोकारों को पूरा करने के लिए दूरस्थ स्थानों में यात्रा व प्रवास हेतु रवाना होना पड़ेगा। यदि आप खिलाड़ी है। या फिर तकनीक व चिकित्सीय कौशल को उच्च करने के मूड़ में हैं, तो यह गोचर कहीं न कहीं अच्छा रहेगा। क्योंकि श्री शुक्र का गोचर आपको वांछित परिणामों की तरफ बढ़ाने वाला रहेगा। वहीं श्री सूर्य व भौम के गोचर इस माह के पहले व दूसरे सप्ताहों में कुछ परेशानी को देने वाले रहेंगे। अतः अपने स्तर पर सावधानी बनाकर चलने में फायदा रहेगा। कहने का अभिप्राय हैं, कि श्री सूर्य का गोचर संबंधित शिक्षा  में मिश्रित परिणामों परिणामों को देने वाला रहेगा।

स्वास्थ्यः अक्टूबर 2021 के महीने मे कुम्भ राशि के जातक एवं जातिकाओं को समग्र स्वास्थ्य को पुष्ट करने की दिशा में सतत् आगे बढ़ने की जरूरत बनी हुई रहेगी। इस माह ग्रहीय गोचर क्रम में शरीर में कुछ रोग व पीड़ाओं की स्थिति उभर सकती है, अतः प्रयासों को जारी रखने में कोताही न करें, क्योंकि इस माह के शुरूआत से ही श्री सूर्य व भौम का गोचर तन में आन्तरिक पीड़ाओं को देने वाला रहेग। ऐसे में सेहत क्षमतायें कमजोर रहेगी। अतः अपने खान-पान का पूरा ध्यान देते हुये उचित योगासनों को करने में कोताही न करें, तो निश्चित तौर पर सफलता रहेगी। वहीं राशि स्वामी श्री शनि की गोचरीय स्थिति ज्यादा बेहतर नहीं रहेगी। किन्तु शुक्र का गोचर वांछित परिणामों को देने में सहायक रहेगा। जिससे एक बेहतर दिनचर्या से उत्पन्न रोग व पीड़ाओं को दूर करने में सक्षम रहेगे।

उपयोगी उपायः ऊॅ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरवे नमः मंत्र का जाप करे या करवायें।