हिन्दी

मेष राशि मासिक राशिफल (Mesh Rashi Masik Rashifal)

मेष राशि मासिक राशिफल (Mesh Rashi Masik Rashifal)

मेष मासिक राशिफल अप्रैल 2021

माह अप्रैल 2021 की गृह स्थितियों अनुसार मासिक फल निम्न प्रकार है:

सूर्य इस मास 13 अप्रैल से मेष राशिगत गोचर करेंगे। श्री मंगल 13 अप्रैल से मिथुन राशि गत गोचर करेंगे। श्री बुध 01 अप्रैल से मीन राशि तथा 16 अप्रैल से मेष राशि में गोचर करेंगे। श्री वृहस्पति 06 अप्रैल से कुम्भ राशि गत गोचर करेंगे। श्री शुक्र 10 अप्रैल से मेष राशि गत गोचर करेंगे। तथा श्री शनि पूर्ववत मकर राशि में गोचर करेंगे। राहू का गोचर पूर्ववत वृष राशि एवं केतु का गोचर पूर्ववत वृश्चिक राशि में रहेगा।

कैरियर एवं व्यवसायः सन् 2021 अप्रैल माह में मेष राशि के जातक एवं जातिकाओं को कार्य व व्यापार को शानदार बनाने तथा निकट प्रतिद्वन्दी को पीछे छोड़ने में अच्छी प्रगति के अवसर बने हुये रहेंगे। यदि आप निजी व सरकारी संस्थाओं में नीति निर्माता या फिर न्यायिक कामों से जुड़े हैं, तो इस माह वांछित सफलता कदम-कदम पर मिलती हुई रहेगी। किन्तु श्री सूर्य का गोचर कहीं न कहीं हठीला बनाने वाला रहेगा। ऐसे में आप कुछ महत्वपूर्ण निर्णयों में संबंधित अधिकारियों के मध्य उसकी समीक्षा करने में चूक सकते है। ऐसे में कुछ परेशानियों की स्थिति आ सकती है। हालांकि कामों को साधने तथा सामाजिक व राजनैतिक जीवन में वांछित स्थानों पाने के लिये पूरी ईमानदारी से काम करने की जरूरत रहेगी। अन्यथा विरोधी पक्ष परेशान करता हुआ रहेगा।

प्रेम एवं संबंधः माह अप्रैल 2021 मेष राशि वाले घर व परिवार के प्रति अपने विचारों को सकारात्मक बनाने लगे हुये रहेंगे। क्योंकि इस माह संबंधित कुटुम्ब भावगत श्री सूर्य का गोचर संबंधों में तकरार को देने वाला रहेगा। अतः किसी सदस्य के हठीले रवैये को समझते हुये किसी निर्णय में जाने की जरूरत रहेगी। वहीं 13 अप्रैल से श्री सूर्य का गोचर वैवाहिक जीवन में कुछ तनाव को देने वाला रहेगा। अतः अनावश्यक गुस्से से बचने की जरूरत बनी हुई रहेगी। किन्तु संबंधों के लिहाज से यह महीना शुभ व सकारात्मक रहेगा। ऐसे में साथी के प्रति मानसिक परिवर्तन करने में लगे हुये रहेंगे। तथा उन्हें वांछित वस्तुओं को दिलाने हेतु संबंधित बाजार का रूख कर सकते है। कहने का अर्थ है।, कि इस माह घर व परिवार में अच्छा माहौल रहेगा। किन्तु इस दिशा में सकारात्मक होने की जरूरत रहेगी।

वित्तीय स्थितिः अप्रैल 2021 में मेष राशि के जातक एवं जातिकाओं को उत्पादन, विक्रय, निर्माण, प्रबंधन आदि जो भी आय के स्रोत है। इस माह के दूसरे सप्ताह से उम्दा किस्म के परिणामों को देने वाले रहेंगे। यानी धन लाभ की बयार बहती हुई रहेगी। अतः प्रयासों को पूरी होशियारी के साथ जारी रखने में फायदा रहेगा। क्योंकि लाभ भावगत श्री गुरू का गोचर इस माह के दूसरे सप्ताह से सक्रिय रहेगा। ऐसे मे धन लाभ प्राप्त होने के अच्छे आसार रहेंगे। वहीं 13 अप्रैल से श्री सूर्य का गोचर उच्च होकर गोचर में रहेगा। जिससे रूके हुये कामों को पूरा तथा कुछ मामलों में अधिकारियों से तनाव हो सकते हैं। वहीं राशि स्वामी मंगल की गोचरीय स्थिति भी आपके लिये शुभ व सकारात्मक बनी हुई रहेगी। जिससे धन कमाने में सफल होते रहेंगे।

शिक्षा एवं ज्ञानः अप्रैल 2021 में मेष राशि के जातक एवं जातिकाओं को पढ़ने लिखने और संबंधित विषयों में गहरी समझ को विकसित करने के उम्दा किस्म के अवसर बने हुये रहेगे। क्योंकि विद्या भाव के स्वामी श्री सूर्य उच्च होकर गोचर में रहेंगे। वहीं गुरू का गोचर संबंधित विषयों की तैयारियों को पुख्ता करने वाला तथा प्रतियोगी आदि परीक्षाओं में वांछित प्रगति को देने वाला रहेगा। अतः संबंधित विषयों के आधार को मजबूत बनाने की दिशा में निरन्तर प्रयासों की जरूरत बनी हुई रहेगी। किन्तु ध्यान को भटकने से बचाना है, और वक्त रहते सही दिशा में आगे बढ़ने की जरूरत बनी हुई रहेगी। यदि किसी विषय में विशेष रूचि रखने वाले हैं, तो सफल रहेंगे। किन्तु विषयों को दोहराने और तैयारियों की समीक्षा जरूर एक बार कर लें, अन्यथा हानि रहेगी।

स्वास्थ्यः अप्रैल 2021 में मेष राशि के जातक व जातिकाओं को सेहत को संवारने के अच्छे अवसर बने हुये रहेंगे। वैसे राशि स्वामी श्री मंगल का गोचर पराक्रम भावगत बना हुआ रहेगा। ऐसे में आप यश व कीर्ति लाभ के कामों को करने में लगे हुये रहेंगे। हालांकि सेहत को मजबूत रखने के लिहाज से यह माह अनुकूल बना हुआ रहेगा। वहीं श्री सूर्य का गोचर 13 अप्रैल से उच्च होकर लग्न भावगत होने से सेहत में कुछ पीड़ा या चोट की स्थिति उभर सकती है। ऐसे में किसी मामलें में अचानक ही तनाव से परेशान होते रहेगे। यानी इस माह यद्यपि सेहत के लिये अच्छे अवसर तो रहेंगे। किन्तु अनावश्यक गुस्से से बचने की जरूरत बनी हुई रहेगी। यानी ग्रहीय गोचर के कारण सिरोवेदना या फिर कंधे व नेत्र के दर्द उभर सकते है। अतः सूझबूझ को कमजोर न करें।

उपयोगी उपायः श्री हनुमान चालीसा का पाठ करें।