हिन्दी

2019 वृश्चिक राशि की ग्रह स्थितियां

2019 वृश्चिक राशि की ग्रह स्थितियां

2019 मे वृश्चिक राशि के लिए ग्रहों का गोचर

2019 में वृश्चिक राशि के लिए ग्रह स्थितियां इस प्रकार रहेंगी

सूर्यः इस वर्ष सूर्य 14 जनवरी से तृतीय भाव में, 13 फरवरी को चतुर्थ भाव में, 14 मार्च को पंचम भाव में, 14 अप्रैल को षष्ठ भाव में, 15 मई दारा भाव, 15 जून को अष्टम भाव में, 16 जुलाई को धर्म भाव में, 17 अगस्त को कर्म भाव में, 17 सितम्बर को आय भाव में, 17 अक्टूबर को व्यय भाव में, 16 नवम्बर को प्रथम भाव में, 16 दिसम्बर को द्वितीय भाव में संचरण करेगा।

चंद्रः चंद्र की गोचरीय तीव्रता होने के कारण सवा दो नक्षत्रों अर्थात् एक राशि का गोचरीय क्रम लगभग ढ़ाई दिनों में पूर्ण हो जाता है। अतएव चंद्रमा इसी तीव्रता क्रम से राशि चक्र में वर्ष पर्यन्त मेष से मीन पर्यन्त गोचर करेगा।

मंगलः मंगल इस वर्ष 05 फरवरी को षष्ठ भाव में, 22 मार्च को दारा भाव में, 07 मई को अष्टम भाव में, 22 जून को धर्म भाव में, 08 अगस्त को कर्म भाव में, 25 सितम्बर को आय भाव में, 10 नवम्बर को व्यय भाव में, 25 दिसम्बर को प्रथम भाव में संचरण करेंगे।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |

बुधः 01 जनवरी को द्वितीय भाव में, 20 जनवरी को तृतीय भाव में, 07 फरवरी को चतुर्थ भाव में, 25 फरवरी को पंचम भाव, 03 मई को षष्ठ भाव में, 18 मई को दारा भाव में, 01 जून को अष्टम भाव में, 20 जून को धर्म भाव में, 26 अगस्त को कर्म भाव में, 10 सितम्बर को आय भाव में 29 सितम्बर को व्यय भाव में, 23 अक्टूबर को प्रथम भाव 25 दिसम्बर को द्वितीय भाव में संचरण करेंगे।

गुरूः इस वर्ष गुरू प्रथम भाव में गोचर करते हुए 29 मार्च को द्वितीय भाव 22 अप्रैल को प्रथम भाव में 04 नवम्बर को द्वितीय भाव में संचरण करेंगे।

शुक्रः शुक्र 01 जनवरी को प्रथम भाव में, 29 जनवरी द्वितीय भाव में, 24 फरवरी को तृतीय भाव में 21 मार्च को चतुर्थ भाव में, 15 अप्रैल को पंचम भाव में, 10 मई को षष्ठ भाव में, 04 जून को दारा भाव में, 28 जून को अष्टम भाव में, 23 जुलाई को धर्म भाव में, 16 अगस्त को कर्म भाव में, 09 सितम्बर को आय भाव में, 03 अक्टूबर को व्यय भाव में, 28 अक्टूबर को प्रथम भाव में 21 नवम्बर को द्वितीय भाव में 15 दिसम्बर को तृतीय भाव में संचरण करेंगे।

शनिः शनि वर्ष पर्यन्त द्वितीय भाव में गोचर करेंगे।

राहुः राहु इस वर्ष 06 मार्च तक धर्म भाव इसके पश्चात् अष्टम भाव में संचरण करेगा।

केतुः केतु इस वर्ष 06 मार्च तक तृतीय भाव में इसके पश्चात् द्वितीय भाव में संचरण करेगा।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |