हिन्दी

2019 कन्या राशि स्वास्थ्य वार्षिक राशिफल

2019 कन्या राशि स्वास्थ्य वार्षिक राशिफल

2019 कन्या राशि स्वास्थ्य राशिफल

स्वास्थ्य 2019 कन्या राशि वार्षिक राशिफल

जनवरी 2019 से मार्च 2019: वर्ष 2019 के माह जनवरी में आप अच्छी सेहत हेतु उत्साहित रहेंगे। यद्यपि कन्या राशि के जातकों व जातिकाओं के अचानक ही क्रोध व उत्तेजना की स्थिति बढ़ी हुई रहेगी। अतः क्रोध से बचें। हालांकि फरवरी में बुध की स्वगृही स्थिति होने से आपकी सेहत में शुभता की स्थिति रहेगी। किन्तु शनि का तन भाव से संबंध रहने से आप अन्दर मन में चिन्तनशील रहेंगे। क्योंकि ढै़या का प्रभाव बना हुआ रहेगा।

अप्रैल 2019 से जून 2019: 2019 के इन मासों में कन्या राशि के जातक व जातिकाओं को स्वास्थ्य संदर्भों में मिश्रित परिणाम रहेंगे। अर्थात् आपको कभी ऐसा प्रतीत होगा कि सेहत ठीक है। कभी आपको ऐसा लगेगा कि स्वास्थ्य में ताकत की कमी है या फिर शनि का संबंध तन भाव से होने से आपके मन को बेकार की बातें रह-रहकर परेशान करने वाली रहेगी। अतः सूझ बूझ से काम लेने के जरूरत रहेगी।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |

जुलाई 2019 से सितम्बर 2019: 2019 के इन मासों में आपको सेहत में रोगप्रतिरोधक क्षमताओं की कुछ कमी सी बनी हुई रहेगी। जिससे आपको कुछ जुकाम-बुखार खांसी व जलन की जैसी स्थिति रहेगी। जिससे आप परेशान रहेगे। किन्तु इसके बाद भी शुभ व सकारात्मक ग्रहों का भी बहुत हद तक आपको सहयोग मिलता हुआ रहेगा। जिससे आपके तन की तंदुरूस्ती ठीक-ठाक बनी हुई रहेगी। जिससे आप खुश रहेंगे।

अक्टूबर 2019 से दिसम्बर 2019: 2019 के इन मासों में कन्या राशि के जातकों को तन को संवारने के लिए कुछ जरूरी परहेजों को अपनाने की जरूरत बनी हुई रहेगी। क्योंकि आपके तन भावगत शानि का प्रभाव बना हुआ रहेगा। जिससे आप कुछ हद तक परेशान रहेंगे। अतः आपकी परेशानी और न बढ़े इसका ध्यान देने की जरूरत रहेगी। क्योंकि अनियमित खान-पान आपके लिए कुछ परेशानी का कारण बना हुआ रहेगा।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |

नोटः यह स्वास्थ्य पूर्वानुमान वैदिक ज्योतिषशास्त्र के अनुसार राशि चक्र में ग्रहों की गोचरीय स्थिति एवं उनके शुभाशुभ प्रभाव, बलाबल के आधार पर बताया जा रहा है। इसे पूर्ण रूप से स्वास्थ्य सुझाव न मानकर साथ में स्वास्थ्य विशेषज्ञ (डाक्टर) की सलाह भी जरूरी लें।