हिन्दी

वृश्चिक राशि (Vrischik Rashi) की सम्पूर्ण जानकारियाँ

वृश्चिक राशि (Vrischik Rashi) की सम्पूर्ण जानकारियाँ

वृश्चिक राशि के सामान्य लक्षण एवं गुण  (Vrischik Rashi General Characteristic)

भौतिक लक्षण : मध्यम कद, सुडौल शरीर और अंग, चैड़ा चेहरा, घुंघराले बाल, श्याम वर्ण, उन्नत ठोड़ी।

अन्य गुण : स्पष्टवादी, निडर, रूखा व्यवहार। उत्तम मस्तिष्क, बुद्धिमान, ईच्छाशक्ति से युक्त। शब्दों का उत्तम चुनाव करते हैं। अन्य लोगों के मामलों में दखल नहीं देते हैं। अक्सर तानाशाह होते हैं, कभी थकान नहीं होती।

जब तक आश्वस्त न हो जाएं कि उनका विषय का ज्ञान सर्वोच्च कोटि का है, मुंह नहीं खोलते । वर्तालाप और लेखन में दक्ष होते हैं अपने बुद्धिबल के सहारे रहते हैं। उच्चकोटि की प्रशासनिक क्षमता और आत्मविश्वास से युक्त होते हैं। गुप्त रूप से अपराध करने में सक्षम होते है। परिश्रम और साहस के बल पर धनार्जन करते हैं स्वयं के बल पर सफल होते हैं। सामाजिक आंदोलनों में सक्रिय होते हैं। समाज में सलाहकार/नेता बनते हैं। सेना और पुलिस में सफलापूर्वक कार्य करते है, इनके बहुत से शत्रु होते हैं। मौलिक अनुसंधान में चतुर होते हैं। अकेले रहकर बेहतर कार्य करते हैं। मैदान के खेलों के शौकीन होते हैं संगीत, कला, नृत्य आदि में प्रवीण होते हैं। परावि़द्या में रूचि होती है। काम-वासना अधिक होती है, साथी को पशु की तरह प्रयोग करते हैं।

संभाव्य रोग : गुप्त रोग, प्रोस्टेट ग्रंथि, पित्ताशय आदि के रोग, आयु के 29 से 45 वर्ष सौभाग्यशाली होते हैं। 62 से 71 वर्ष की आयु में गंभीर व्याधि होती है या आँपरेशन होता है।

अशुभ वर्ष : 11, 28, 38, 52, 62

छेद या बिल वाला स्थान, विष शीर्षोदय राशि चैड़ी फैली हुई आंखें तथा छाती। बाल्यावस्था में बीमार, क्रूर कामो में रूचि, साहसी, सहनशक्ति, प्रबन्धन, स्त्री राशि होती है।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |