कर्क राशि की सम्पूर्ण जानकारियाँ

कर्क राशि की सम्पूर्ण जानकारियाँ

कर्क राशि के सामान्य लक्षण एवं गुण  (Kark Rashi General Characteristic)

भौतिक लक्षणछोटा कद, बौनापन, शरीर का ऊपरी भाग बड़ा बचपन में दुबला शरीर, सुदृढ़ पुरूषत्व, गोल चेहरा चेहरे पर भय की छाया, पीला-फीका रंग, भूरे बाल लहराई सी चाल, चैडे़ कंधे, सीधे नहीं चलते हैं।

अन्य गुण : कल्पनाशक्ति उत्तम, नकल करने में महारत, कई अभिनेता और नकलची इस राशि के होते हैं।

नये विचारों को शीध्र अपना लेते हैं, नये वातावरण में शीध्र ढल जाते है। परिश्रम द्वारा धन संचय करते है। परिवर्तनशील प्रकृति के कार्य कर सकते है। व्यापार विशेषकर खान-पान के कार्य में निपुण होते हैं। अच्छे नेता, वक्ता, लेखक, सलाहकार होते है। क्रोधी और धैर्यहीन होते हैं। मूड बदलता रहता रहता है। भरोसेंमंद नहीं होते। बातूनी, आत्मनिर्भर, ईमानदार और न झुकने वाले हैं। न्यायप्रिय होते है। स्मरण शक्ति उत्तम रहती है। अच्छे मेहमाननवाज होते हैं। विद्वानों के पिय्र होते है। परिवार और संतनान में आसक्त रहेते हे। आदर्श जीवन साथी साबित होत हैं। प्रायः महिलाओं के चक्कर में रहते हैं। बेचैन और भटकते रहते है।

संभावित रोग: : फेफड़ों का संक्रमण, खांसी, यक्ष्मा, अजीर्ण, अफरा, स्नायविक दुर्बलता, पीलिया आदि। 21 से 36 वर्ष की आयु का समय सौभाग्यशाली होता है। 37 से 52 वर्ष में आर्थिक कठिनाइयां और शत्रुओं से कष्ठ होते हैं। 52 से 69 वर्ष का समय अति उत्तम रहता है। अशुभ वर्ष 5, 25, 40, 48 और 62 ।

जलीय खेत जहां धान पैदा होता है । कुएं, तालाब, नदी के किनारे जहां पौधों की अधिकता होती है, आदि स्थानों में इनकी उपस्थिति पायी जाती है। चलने में तेज, धन का शौकीन, शुीा राशि मिलनसार प्रकृति, निःस्वार्थ, दूसरों के लिए बलिदान देने वाला जातक होता है। स्त्री राशि है।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |