तुला राशि की सम्पूर्ण जानकारियाँ

तुला राशि की सम्पूर्ण जानकारियाँ

तुला राशि के सामान्य लक्षण एवं गुण  (Tula Rashi General Characteristic)

भौतिक लक्षण : लंबा-पतला, सुद्ढ़-सुडौल शरीर, सुंदर चेहरा, लावण्यमयी त्वचा, मध्यायु में गंजापन हो जाता है, भौहें सुंरता में वृद्धि करती है। नाक थोड़ी मुड़ी हुई होती है, दांतो के मध्य खाली जगह होती है, मस्तक उठा हुआ होता है।

अन्य गुण : नम्र, दयालु, ईमानदार, न्याय करने में निपुण, निर्णय लेने से पूर्व हर पहलू का विश्लेषण करते हैं। दूसरों के धन के लोलुप होते हैं मगर आश्रितों के सहायक रहते है। भावुक मगर लचीले स्वभाव क होते हैं। क्रोध शीघ्र शांत हो जाता है। स्वयं की बजाय दूसरों का अधिक ध्यान रखते हैं। वाद-विवाद में पटु होते हैं। सदा न्याय शांति, प्रेम का समर्थन करते हैं। तुला वायु तत्व की राशि होने के कारण सदा सुंदरता और प्रकृति के प्रेमी होते हैं। पर्यटन के शौकीन होते हैं, इस कारण आवास भी में भी परिवर्तन कर लेते हैं। उच्चकोटि का जीवन यापन करते हैं, वेशभूषा, फर्नीचर, वाहन और अन्य सुविधाओं का ध्यान रखते हैं। व्यापार में कुशल होते हैं। अधिकांशतः लोकप्रिय होते हैं, व्यापार में अच्छे साझेदार साबित होते हैं। उत्तम सेल्समैन, लाएसां अधिकारी और रिसेप्शनिस्ट बनते हैं। कलाप्रिय होते है। और महिलाओं के मध्य विचरना पसंद करते हैं। सौभाग्यशाली महिलाएं इन्हें पसंद करती हैं।

गुर्दो के रोग, मेरूदंड में दर्द संक्राकक रोग। महिलाओें मे गर्भाशय के रोग होते हैं 18 से 27 वर्ष की आयु में बहुत प्रगति करते हैं, 28 से 42 वर्ष के मध्य उत्तम धनार्जन होता है। 8, 15, 35, 62 और 64 वर्ष अशुभ वर्ष है।

व्यापारी ,दुकान, अनाज का स्थान, व्यापारी का घर, वर्ण काला, मध्यम कद, शीर्षोदय व्यापारिक स्थान, जवानी में पतला शरीर परन्तु मोटापे की ओर झुकाव, गोल चेहरा, पुरूष राशि की होती है।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |