हिन्दी

2019 वृश्चिक राशि स्वास्थ्य वार्षिक राशिफल

2019 वृश्चिक राशि स्वास्थ्य वार्षिक राशिफल

2019 वृश्चिक राशि स्वास्थ्य राशिफल

स्वास्थ्य 2019 वृश्चिक राशि वार्षिक राशिफल

जनवरी 2019 से मार्च 2019: वर्ष 2019 के इन मासों में वृश्चिक राशि वालों को कुल मिलाकर सेहत के मामलों में अच्छे परिणाम रहेंगे। आप अपने खान-पान को संतुलित करने का प्रयास करेंगे। हालांकि आपको पित्त संबंधी विकारों की स्थिति उभर सकती है। जिससे आप कुछ परेशान रहेंगे। अतः कुछ जरूरी व्यायामों को अपनाने में आपको फायदा रहेगा। जरूरी चिकित्सीय सलाह लेना आपके लिए हितकर रहेगा।

अप्रैल 2019 से जून 2019: इस वर्ष 2019 के इन माहों में आपके चेहरे की रौनकती बढ़ी हुई रहेगी। आप नियमित खान-पान को अपनाने में और अधिक दिलचस्प रहेगे। क्योंकि इस दौरान आपके तन भाव में शुभग्रहीय प्रभाव बना हुआ रहेगा। जिससे आप अपने कामों को और क्षमता के साथ करने में तल्लीन रहेंगे। हालांकि वात रोगों की स्थिति से आपको कुछ परेशानी की स्थिति उभर सकती है।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |

जुलाई 2019 से सितम्बर 2019: इस वर्ष 2019 के इन मासों में वृश्चिक राशि के जातकों को शनि की साढे़साती की स्थिति का प्रभाव बना हुआ रहेगा। जिससे सेहत में कुछ उतार-चढ़ाव की स्थिति रहेगी। हालांकि गुरू का तन भाव से संबंध आ रही कई मुश्किलों को कम करने वाला रहेगा। जिससे आप आगे बढ़ते हुए रहेंगे। अतः सेहत में उम्रगत बीमारियों का ख्याल रखें और अपने खान-पान का ध्यान देते रहें तो अच्छा रहेगा।

अक्टूबर 2019 से दिसम्बर 2019: इस वर्ष 2019 के इन मासों में आपकी सेहत सुन्दर व चुस्त रहेगी। क्योंकि इन माहों में शुक्र व शुभ ग्रही प्रभाव तथा मंगल का स्वगृही प्रभाव होने से आप खुश रहेंगे। यदि सेहत में कोई तकलीफ है,  तो उसके दूर होने के पूरे आसार रहेंगे। हालांकि शनि की साढ़े साती के कारण आपके मन में कुछ परेशानी की स्थिति रहेगी। अतः यथा सम्भव खान-पान के साथ व्यायाम का ध्यान देते रहे।

अपनी व्यक्तिगत समस्या के निश्चित समाधान हेतु समय निर्धारित कर ज्योतिषी पंडित उमेश चंद्र पन्त से संपर्क करे | हम आपको निश्चित समाधान का आश्वासन देते है |

नोटः यह स्वास्थ्य पूर्वानुमान वैदिक ज्योतिषशास्त्र के अनुसार राशि चक्र में ग्रहों की गोचरीय स्थिति एवं उनके शुभाशुभ प्रभाव, बलाबल के आधार पर बताया जा रहा है। इसे पूर्ण रूप से स्वास्थ्य सुझाव न मानकर साथ में स्वास्थ्य विशेषज्ञ (डाक्टर) की सलाह भी जरूरी होने पर अवश्य लें।